ये मेरा भारत है हिंदी कविता


दोस्तों भारत और विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र और विश्व का एक उभरता हुआ देश है। भारतीय संस्कृति एवं सभ्यता विश्व की सबसे प्राचीन सभ्यताओं में से एक है।भारत देश के गौरवशाली अतीत की तुलना सोने की चिड़िया से की जाती है। हमारा देश हिमालय की पहाड़ियों से लेकर समुद्र तक फैला हुआ है और इसे भारत माता कहकर भी संबोधित किया जाता है।
भारत माता जिसका मुकुट स्वयं हिमालय है और हिन्द महासागर जिसके चरणों को धोता है ।

भारत कई मामलों में विश्व में कई देशों से आगे है पर आज भी भारत में ऐसी कई समस्याएं व्याप्त है जिनका समाधान किया जाना अनिवार्य है।

भारत की कुछ इन्हीं समस्याओं बताती हुई कविता हम आपके लिए लेकर आए हैं उम्मीद है आप को यह कविता पसंद आएगी।
ये मेरा भारत है हिंदी कविता
ये मेरा भारत है हिंदी कविता




ये मेरा भारत है,
ये मेरा भारत है,
जहां टीवी पे रामायण ,
और सड़कों पर महाभारत है,
 ये मेरा भारत है,
 ये मेरा भारत है।

 जहां नेता भ्रष्टाचारी।
 अफसर घूसखोर है,
जहां शिक्षा में सीखने से ज्यादा ,
रटने पर जोर है।

जहां चापलूसी करने में,
अफसरों को महारत है।
ये मेरा भारत है,
ये मेरा भारत है।।


ये मेरा भारत है हिंदी कविता
ये मेरा भारत है हिंदी कविता


जहां इरादा तो है,
 पर पास नहीं सुविधाएं हैं ।
जहां चेहरे पर शिकन ,
और मन में दुविधाएं  हैं।।

 जहां घूसखोरी अब ,
बनती जा रही आदत है।
 ये मेरा भारत है,
ये मेरा भारत है।।

 कुछ करने का इरादा है ,
पर लाचारी जरा ज्यादा  है।
 जहां अरमान बड़े है दिल में ,
और जीवन सादा है।।

प्रतिभा पर जहां,
 पैसों का वजन भारी है ।
शिक्षक जहां बन चुके,
 शिक्षा के व्यापारी है।।

 गुंडे बदमाशों को जहां,
 नेताओं का संरक्षण है।
 जहां नौकरी से लेकर शिक्षा तक ,
आरक्षण ही आरक्षण है ।।

जहां सीमाओं से ज्यादा ,
अपने ही घर में क्लेश है।
 ऐसा मेरा देश है ।
ऐसा मेरा देश है।।

 पर ऐसा नहीं मेरे देश ने,
 नाम नहीं कमाया है।
विश्व को शून्य  से अवगत,
 मेरे देश ने कराया है।।

 ये देश है गांधी का ,
देश अरविंद घोष का ।
देश विवेकानंद का,
 है देश एससी बोस का।।

जहां के वीर सपूतों को,
 खुद से प्यारा देश है। 
 ऐसा मेरा देश है,
 ऐसा मेरा देश है।।

विश्वास है,
 अंधविश्वास है।
 सब कुछ लुट जाने पर भी,
जहां ईश्वर में विश्वास है ।।

जहां दर दर पर भगवान है ,
और होठों पर इबादत है ।
ये मेरा भारत है,
 ये मेरा भारत है।

परंपराओं का देश है ,
 धार्मिकता का प्रदेश है ।
संस्कृति जिसकी महान है ,
धर्म जिसकी जान है।।

जहां द्रोण जैसे गुरु 
और कर्ण जैसे दानी थे।
अर्जुन जैसे शिष्य
और कृष्ण जैसे ज्ञानी थे।।

तक्षशिला का ज्ञान है
 संस्कृति पर अभिमान है।
 चाहे कितनी भी मुश्किल हो 
मेरा भारत महान है।।

 मेरे देश का हर व्यक्ति
 मुश्किलों से घिरा रहता है ।
हर व्यक्ति के जीवन में  ,
थोड़ा कष्ट तो रहता है,
 फिर भी देश का हर व्यक्ति,
 भारत माता की जय कहता है।
 भारत  माता की जय कहता है।।



You May Also Like - TRIBUTE TO SUSHANT SINGH RAJPUT





1 Comments

Post a comment

Previous Post Next Post